अंतागढ़ :-  अंतागढ़ मे जारी अनिश्चित धरना प्रदर्शन के 7 वें रोज शहर ग्रामीण इलाके के क्षेत्रवासियों का मिला भरपूर समर्थन

 | 
1

अंतागढ़ मे जारी अनिश्चित कालीन धरना प्रदर्शन के 7 वें रोज शहर एवं ग्रामीण इलाके के क्षेत्रवासियों का मिला भरपूर समर्थन, सीएम से मिलकर अंतागढ़ को जिला बनाने हेतु चर्चा करने के लिए क्षेत्र के लोगों ने विधायक नाग का माना आभार।
अंतागढ़  आज जिला निर्माण संघर्ष समिति अंतागढ़ द्वारा अंतागढ़ को जिला बनाने के लिए वीर नारायण सिंह चौक अंतागढ़ मे जारी अनिश्चित कालीन धारना प्रदर्शन के 7 वें रोज शहर एवं ग्रामीण इलाके से क्षेत्रवासियो का भरपूर समर्थन आंदोलन को मिला।
इस आंदोलन मे उपस्थित सैकड़ो की संख्या मे लोगों की भीड़ ने एक स्वर मे अंतागढ़ को जिला बनाने आवाज बुलंद की और अंतागढ़ के सर्मथन मे आगे आये कोयलीबेड़ा चारगाव भैंसासुर आमाबेड़ा बोंदनार ताडोकी एवं अंतागढ़ शहर एवं ग्रामीण इलाको से अंतागढ़ को जिला बनाने की मांग के साथ कई समर्थक मंच पर पहुंचे।
गोंडवाना समाज अंतागढ़ के ब्लॉक अध्यक्ष बिर सिंग उसेंडी ने भी आंदोलन को समर्थन देते हुए सभा को संबोधित किया उन्होंने कहा की अंतागढ़ को जिला बनाने पिछले 8 साल से लगातार समय समय पर हम क्षेत्र वासियो ने महीनों महीनों तक आंदोलन कर शासन प्रशासन से जिले की मांग कर रहे है ब्रिटिश कालीन अंतागढ़ तहसील का हक है की वो ही जिला बने क्षेत्र के लोग सरकार की उदासीनता को देखते हुए आज नारायणपुर जिले मे शामिल होने की बात कर रहे है जबकि कांकेर जिले को लेकर दूरी लोगों की मजबूरी बन रही है तो अंतागढ़ को जिला बनाए जाने से क्षेत्र के लोग राहत महसूस करेंगे साथ ही अंतागढ़ जिला बनाने से क्षेत्र के लोगों के लिए रोजगार के अवसर व्यवसाय व चौगुना विकास होगा।
आज धरना स्थल पर सुदूर अंचल आमाबेड़ा सोड़े का ग्रामीण युवक सभा को संबोधित करते हुए।
पोडगाव क्षेत्र से युवा नेता गुप्तेश उसेंडी ने कहा की शासन प्रशासन की उदासीनता से आज अंतागढ़ कोयलीबेड़ा आमाबेड़ा क्षेत्र पिछड़ा हुआ है शिक्षा स्वस्थ सड़क को लोग तरस रहे है जबकि जिला मुख्यालय कांकेर एवम आसपास क्षेत्र ने विकास किया है कांकेर जिले का अंतागढ़ विकास खंड बहुत पिछड़ा हुआ है जिसकी सुध सरकार नही लेती अब लोग जान गये है की अंतागढ़ के जिला बने बिना ना रोजगार के अवसर मिलेंगे ना समुचित विकास शहर और गाव का होगा इसलिए अंतागढ़ ही जिला बनना चाहिए क्षेत्र की अधिकांश पंचायते और उनके आश्रित गाव नारायणपुर जिले मे शामिल होने की होड़ मे है ऐसे मे सरकार को अंतागढ़ को जिला घोषित कर जनहित मे जन भावना को पूरा करना चाहिये’।
आंदोलन मे ग्राम पटेल गायता पुजारी बुजुर्ग गण भी आज पहुंचे थे वे भी एक राय होकर अंतागढ़ को जिला बनाए जाने अपनी अपनी राय रखी है आंदोलन को संबोधित करते हुए अदिवासी नेता संत राम सलाम ने कहा की अंतागढ़ को जिला बनाए जाने की ये मांग किसी राजनैतिक मंच का हिस्सा नही है बल्कि ये आंदोलन क्षेत्रीय सर्व समाज का है जो अंतागढ़ के हित मे लगतार 8 दिन से चल रहा है इसमे हर एक अंतागढ़ क्षेत्रवासी का समर्थन मिले ये आशा है ये लड़ाई हम सबकी है।
क्षेत्रवासियों ने विधायक का किया आभार व्यक्त।
क्षेत्रीय विधायक अनूप नाग ने प्रदेश के मुखिया भूपेश बघेल से हाल मे मुलाकात कर अंतागढ़ को जिला बनाये जाने की क्षेत्र से उठ रही जनमांग को रखा है जिससे क्षेत्र के लोगों मे अंतागढ़ के जिला बनने की आश पूरी होती दिख रही है और इस विश्वास के साथ क्षेत्रवासियों ने विधायक अनूप नाग का आभार व्यक्त करते हुए सबने उम्मीद जताया की प्रदेश के संवेदनशील मुखिया भूपेश बघेल अंतागढ़ को जिला अवश्य बनाएंगे।
आज के आंदोलन में पूर्व विधायक भोजराज नाग नगर पंचायत अध्यक्ष राधेलाल नाग, परवेज खान, बीर सिंह उसेंडी (गोंडवाना समाज अध्यक्ष) , अकालूराम पवार ओमप्रकाश उयके, संतराम सलाम, संजय ध्रुव, माखन सिंह, अमल नरवास, जीतू मरकाम, गुप्तेश उसेडी, संजय ध्रुव, सिराजुद्दीन भूपेश ठाकुर, विजय साहू वीर सिंह उसेंडी, दयाराम चेतराम हिडको, रायपाल नुरेटी, बंटी राजपूत, उमेश पोटाई , रिंकू उसेंडी श्री राम साहू, राहुल गुप्ता रामेश्वर मंडावी, मनउ गोटा, कृष्ण कुमार श्रीवास्तव, महेंद्र जैन मानसिंह, घनश्याम रामटेके, रोशन, शांतनु मानकर, धर्मेंद्र वासनीकर, वेद प्रकाश नेताम चेतराम, लक्ष्मण ठाकुर, प्रदीप ठाकुर, देवेंद्र मरकाम अभिजीत निषाद, नितेश देवांगन, कुंवर सिंह ध्रुव, लखन लाल पटेल प्रमोद उयके, रुकधर उयके, लाभेश हुपेन्डी, रामसिंह हुपेन्डी, आदि बड़ी संख्या में उपस्थित थे।