बलरामपुर :-   जिला पंचायत सभापति की गुंडागर्दी थाने में शिकायत दर्ज

 | 
1

 रेत डंपिंग यार्ड के संचालक ने सभापति राजेश यादव के विरुद्ध रामानुजगंज थाने में लिखित शिकायत दर्ज कराई है। डंपिंग यार्ड के संचालक का आरोप है कि पहले जिला पंचायत सदस्य सभापति यादव ने उनसे पैसे की डिमांड की थी। और पैसा नही देने पर सभापति यादव रविवार की शाम अपने रसूख के दम पर ग्राम चिनिया में स्थित डंपिंग यार्ड में अपने समर्थकों के साथ पहुँचकर डंपिंग यार्ड के कर्मचारियों से गाली गलौच करने लगे इतना ही नही। सभापति राजेश यादव ने डंपिंग यार्ड में काम बंद नही करने पर डंपिंग यार्ड में खड़े पोकलेन वाहनों में आगजनी करने तक की धमकी दी है। तथा सभापति के एक समर्थक ने कर्मचारियों में भय पैदा करने के उद्देश्य से पिस्तौल भी लहराया। और सभापति ने डंपिंग यार्ड में लगे होम पाईप को क्षतिग्रस्त कर दिया। वही इस मामले में पुलिस जांच के बाद कार्यवाही करने का आश्वासन दे रही है। गौरतलब है कि रामचन्द्रपुर विकासखण्ड इन दिनों अवैध रेत उत्खनन और भंडारण को लेकर सुर्खियों में बना हुआ है। और क्षेत्र में कन्हर नदी में 3 से 4 रेत घाट संचालित है। जिसमे सत्ता पक्ष के नेता भी सक्रिय है, लेकिन सोंचने वाली बात है की अपने निर्वाचन क्षेत्र होने का धौंस जमाकर रविवार शाम ग्राम चिनिया में जिला पंचायत के सभापति राजेश यादव अपने समर्थकों के साथ संचालित रेत डंपिंग यार्ड पहुँचे थे। इतना ही नही सभापति ने मौके पर मौजूद कर्मचारियों को डराने का भरसक प्रयास किया। और जमकर गुंडागर्दी की थी। यही नही सभापति ने अपने राजनैतिक रसूख के दम पर रामानुजगंज के प्रभारी तहसीलदार को भी मौके पर बुलाया था। जिला पंचायत सदस्य व सभापति राजेश यादव के क्षेत्र में रेत का कारोबार अभी से नही बल्कि कई महीनों से फल फूल रहा है। और सभापति ने कभी इसका विरोध नही किया था, लेकिन अचानक नींद से जागे सभापति राजेश यादव एकाएक ग्राम चिनिया में संचालित रेत डंपिंग यार्ड पहुँच कर विरोध करने लगे, जबकि चिनिया के आसपास हरिहरपुर, फुलवार, अनिरुद्धपुर, कनकपुर गांवो में अवैध रेत उत्खनन वाली जगहों पर जाने की उनकी हिम्मत नही हुई। या यूं कहें कि उनका एक पैमाना निर्धारित कर दिया गया हो, जिसके चलते उन्हें रेत उत्खनन नजर नही आया। सभापति राजेश यादव के क्षेत्र में सक्रिय होने का अंदाजा अब आप इसी से लगा सकते है। की वे अपने कार्यालय के समीप हो रहे रेत उत्खनन को बंद कराने नही गए। खैर उनकी कार्य शैली कई सन्देहों को जन्म दे रही है। की आखिर वे चिन्हित स्थल पर ही क्यो गए। बरहाल चिनिया में संचालित रेत डंपिंग यार्ड के संचालक ने राजेश यादव के विरुद्ध डंपिंग यार्ड में पहुँचकर कर्मचारियों को डराने धमकाने व डंपिंग यार्ड में लगे होम पाईप को क्षतिग्रस्त कर। मौके पर मौजूद पोकलेन मशीनों में आगजनी करने की धमकी देने का आरोप लगाते हुए रामानुजगंज थाने में लिखित शिकायत दी है। जिस पर पुलिस जांच के बाद कार्यवाही करने की बात कह रही है।