बिलासपुर:-  नल-जल योजना के टेंडर खोलने में विलब करने के चलते योजना पर लग रहा ग्रहण

 | 
1

नल-जल योजना के टेंडर खोलने में विलब करने के चलते योजना पर लग रहा ग्रहण

कार्यपालन अभियंता सूचना के अधिकार का जवाब देने से झिझक रहे, महीनो तक नहीं दिया जवाब

शासन की जनहितकारी व कल्याणकारी योजना आमजन तक पहुचाने में पीएचई के अधिकारी बरत रहे गंभीर लापरवाही   

टेंडर खोलने को लेकर ईई की मनमाना रवैये से प्रभावित हो रहा जल जीवन मिशन का कार्य

कांग्रेस सरकार के सफलतम तीन वर्षो के कार्यकाल के दौरान शासन की विभिन्न कल्याणकारी-लोकहितकारी योजनाए संचालित कर प्रदेश की जनता को सौगात दिया है लेकिन शासन के विभागों में बैठे अधिकारी कांग्रेस सरकार की नेक नियत के विपरीत अपनी मनमानी करने से बाज नहीं आ रहे है| पीएचई मंत्री गुरु रूद्र कुमार द्वारा प्रदेश के समस्त जिलो में मीठा व शुद्ध पेय जल उपलब्ध कराने की मंशा के तहत नल-जल योजना के कार्यो को गति देने में लगे हुए है वही बिलासपुर जिले के लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के कार्यपालन इंजिनियर द्वारा नल जल योजना के तहत मस्तुरी तहसील के ग्राम पंचायत कछार के लिए विभागीय निविदा को मैनेज करने के फेर में पिछले दो माह से निविदा का खुलासा करने से बच रहे है जिसके चलते नल-जल योजना का कार्य ठप्प पड़ा हुआ है और क्षेत्र की जनता को शासन की योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है वही मंत्री सहित विभाग की छबि भी धूमिल हो रही है| ठीक इसी तरह कार्यपालन अभियंता एम के मिश्रा के द्वारा विभागीय टेंडरो व कार्यो से सम्बंधित सूचना के अधिकार के तहत मांगे गए जानकारिया भी उपलब्ध नहीं कराई जा रही है जो उनकी मनमानी को प्रदर्शित कर रहा है|

बिलासपुर में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के कार्यपालन इंजिनियर एम के मिश्रा के द्वारा विभागीय टेंडरो में जमकर भ्रष्टाचार को अंजाम देते हुए ठेकेदारों से मोटी कमीशन लेने व केवल अपने हितैषियो को टेंडर आबंटित करने का कार्य किया जा रहा है| विभागीय सूत्रों की माने तो कार्यपालन इंजिनियर एम के मिश्रा द्वारा मस्तुरी तहसील के ग्राम पंचायत कछार में नल-जल योजना के तहत कार्यो की 30 जून को पहली निविदा खोली गई थी लेकिन इसके दो माह से किसी भी निविदा को नहीं निकाला गया है जबकि नियमत: दो अन्य निविदाए पहली निविदा खुलने के तत्काल बाद या एक सप्ताह के भीतर खोलने का प्रावधान है मगर कार्यपालन इंजिनियर एम के मिश्रा द्वारा उक्त दोनों निविदाओ को मोटी रकम कमीशन के रूप में लेने के फेर में नहीं खोला जा रहा है जिसके चलते ठेकेदारों में भी रोष व्यापत है वही विभागीय कार्ययोजना भी प्रभावित हो रही है| ईसी तरह तखतपुर क्षेत्र के ग्राम पंचायत बोडसरा में भी नल-जल योजना के तहत 23 लाख की राशि के कार्यो का निविदा खोला जाना था मगर कार्यपालन  इंजिनियर एम के मिश्रा द्वारा कमीशन के फेर में यहाँ भी निविदा खोलने में आनाकानी की जा रही है| बिलासपुर जिले के लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के कार्यपालन इंजिनियर एम के मिश्रा द्वारा कांग्रेस सरकार की नेक नियत के विपरीत अपनी मनमानी करने से बाज नहीं आ रहे है जिसके चलते लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग सहित पीएचई मंत्री गुरु रूद्र कुमार की छबि को धूमिल करने के प्रयास में लगे हुए है जिसको संज्ञान में लेकर लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के उच्च अधिकारियो को कार्यपालन अभियंता के कार्यो की जांच कर कार्यवाही की जानी चाहिए|  

सूचना का अधिकार का उडाया जा रहा माखौल :- बिलासपुर लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के समक्ष जल जीवन मिशन के तहत बिलासपुर जिले में बीते वर्ष से अब तक आमंत्रित किए गए निविदाओ एवं निविदाओ में भाग लेने वाले ठेकेदारों की सूची सहित प्रस्तुत दस्तावेजो की प्रतिलिपि उपलब्ध कराने एवं जल जीवन मिशन के तहत लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग बिलासपुर द्वारा जो भी निविदा आमंत्रित किए गए है उसमे एल 1, एल2, एल3, ठेकेदारों की सूची एवं उनके द्वारा निर्धारित की गई दर की निविदा वार सत्यापित प्रतिलिपि की जानकारी मांगी गई थी लेकिन सूचना का अधिकार लगाये 2 माह से भी अधिक समय बीत जाने के बाद भी विभाग द्वारा जानकारी उपलब्ध नहीं कराई गई है जो सीधा-सीधा मनमानी को प्रदर्शित कर्ता है