छत्तीसगढ़ :-  दुनिया में शांति और अहिंसा का संदेश देने के लिये एकता परिषद निकालेगी के 100 जिलों में 110 पदयात्रायें
 

 | 
1

दुनिया में शांति और अहिंसा का संदेश देने के लिये एकता परिषद एवं साथी संगठन 21 सितम्बर अंतर्राष्ट्रीय शांति दिवस से 2 अक्टूबर अंतर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस तक 12 दिवसीय जयजगत न्याय एवं शांति पदयात्रा का आयोजन करेगी। परम आदरणीय राजा जी के निर्देशन एवं एकता परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री रनसिंह परमार जी के मार्गदर्शन में देशभर में 100 जिलों में 108 पदयात्रायें निकाली जायेगी। 30 अगस्त 2021 को 12 दिवसीय पदयात्रा के स्वरूप, मुद्दे, साइज, संख्या, यात्रा मार्ग और व्यवस्थाओं को लेकर तैयारी करने के लिए मानव जीवन विकास समिति, मझगवां जिला कटनी में एक बैठक आयोजित हुई थी , जहां एकता परिषद के संस्थापक परम आदरणीय राजा जी के सान्निध्य में यात्रा के कार्यक्रम को अंतिम रूप दिया गया।

राजा जी ने अपने संबोधन में बताया कि 12 दिवसीय पदयात्रा में कई विषयों पर चर्चा की जायेगी जिसमें पहला दिन- शांति के लिए उपवास, दूसरा दिन- जलवायु परिवर्तन, प्रदूषण से मुक्ति, तीसरा दिन- पौधा रोपण, रचनात्मक कार्य, चौथा दिन- क्लाईमेट पॉलिसी पर चर्चा, पांचवा दिन सामूहिक भोजन, छटवा दिन- बहिष्कार का दिन, सातवा दिन- गाँव की सुंदरता, आठवा दिन- शुद्ध जल पर चर्चा, नवा दिन- शिक्षा, खेल से शिक्षा, दसवा दिन पलायन, ग्यारवा दिन- युवाओ को अहिंसात्मक अर्थ व्यवस्था से जोड़ना एवं वारहवा दिन- अंतर राष्ट्रीय अहिंसा दिवस मनाना है। बैठक में एकता परिषद राष्ट्रीय टीम के सभी सम्मानित सदस्य, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, उत्तरप्रदेश, बिहार, झारखंड एवं उड़ीसा के राज्यस्तरीय समन्वक उपस्थित थे । वहीं छत्तीसगढ़ के प्रदेश संयोजक मुरली संत ने बताया कि एकता परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष के निर्देशन में छत्तीसगढ़ में 16 जिलों में लगभग 17 पद यात्राएं होनी है