कोविड से माता-पिता खोए बच्चों को महतारी दुलार योजना से मिलेगी शिक्षा सहायता

 | 
1

अम्बिकापुर  : राज्य शासन द्वारा कोविड 19 महामारी से मृत व्यक्तियों के बेसहारा, अनाथ बच्चों को निःशुल्क स्कूली शिक्षा उपलब्ध कराने हेतु छत्तीसगढ़ महतारी दुलार योजना लागू की गई है। यह योजना शैक्षणिक सत्र 2021-22 से सम्पूर्ण छत्तीसगढ़ में लागू होगा तथा क्रियान्वयन स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा किया जाएगा। पात्रता के लिए छत्तीसगढ़ का निवासी हो। ऐसे बच्चे जिनके कमाने वाले माता या पिता  या दोनो की  मृत्यु कोविड-19 से हुआ हो। स्कूली शिक्षा प्राप्त करने हेतु आयु संबंधी पात्रता रखता हो।जिनके घर मे कमाने वाले वयस्क सदस्य न रहने के कारण  भरण-पोषण की समस्या उत्पन्न हो गई हो।
यह मिलेगी सुविधा- पात्र बच्चों को प्रदेश के शासकीय स्कूलों में  निःशुल्क शिक्षाएराज्य शासन द्वारा संचालित स्वामी आत्मानन्द उत्कृष्ठ अंग्रेजी माध्यम विद्यालय में  प्रवेश में प्राथमिकता, ऐसे बच्चे जिनके माता-पिता दोनो की कोरोना से मृत्यु हो गई है उनके शिक्षा का संपूर्ण व्यय शासन  वहन करेगा, जिनके कमाने वाला माता या पिता की मृत्यु हो गई है उन्हें निःशुल्क शिक्षा दिया जाएगा, पात्र छात्र को उच्च शिक्षा के लिए प्रोत्साहन दिया जाएगाए प्रतिभावान छात्रों को व्यवसायिक पाठ्यक्रम में प्रवेश हेतु  प्रशिक्षण अथवा कोचिंग सुविधा उपलब्ध कराया जाएगा, कक्षा पहली से 8 वी तक 500 रुपये तथा 9 वी से 12 कक्षा तक एक हजार रुपये प्रतिमाह छात्रवृत्ति दी जाएगी।