महासमुंद: कलेक्टर डोमन सिंह ने की कोविड कार्यों की समीक्षा, कहा - मिलकर तोड़ेंगे कोरोना की चेन

 | 
1

रिपोर्ट- शुकदेव वैष्णव


महासमुंद 29 मई 202: जिले में कोरोना संक्रमण की दर में निरन्तर कमी आ रही है। पॉजिटिविटी की दर कम हुई है और रिकवरी बढ़ी है। कोविड के पॉजिटिव केस में विगत दिनों की अपेक्षा काफी कमी आई है। हर व्यक्ति की भागीदारी से कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ेंगे। ये बातें कलेक्टर डोमन सिंह ने आज कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में वीडियों कांन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कोविड-19 के कार्यों की समीक्षा करते हुए कही। 

उन्होंने कहा कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण के रोकथाम के लिए सभी विभागों के अधिकारी-कर्मचारियों के साथ-साथ जिले के नागरिकों ने जागरूकता एवं सजग रहकर कार्य किया है। इस अवसर पर जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री आकाश छिकारा सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे। कलेक्टर सिंह ने संबंधित अधिकारियों से कहा कि कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग को और अधिक प्रभावी करते हुए टेस्टिंग कार्य बढ़ाया जाए। किसी भी मरीज को दवाई, ऑक्सीजन, बेड तथा एम्बुलेंस की कमी न होने पाए। प्रत्येक अस्पताल में सभी उपकरण क्रियाशील स्थिति में रहें। नियमित तौर पर अस्पतालों, स्वास्थ्य केंद्रों का दौरा करने और सरकार द्वारा आपूर्ति की जा रही दवाओं की उपलब्धता की निगरानी करने कहा।

कलेक्टर ने संबंधित अधिकारियों से ग्रामीण एवं नगरीय क्षेत्रों के टीकाकरण पंजीयन की जानकारी, कोविड टेस्ट, टीकाकर्मियों के संबंध में, होम आइसोलेशन, डिस्चार्ज, नगरीय निकायों द्वारा दी गई सामग्री की जानकारी, सीमावर्ती क्षेत्रों की व्यवस्था, क्वारेंटाईन संेटर, रेलवे स्टेशन में टेस्टिंग की जानकारी, कंटेनमेंट जोन की व्यवस्था, कांटेक्ट ट्रेसिंग, क्वारेंटाईन सेंटर में रूके हुए लोगों की जानकारी, सामग्री वितरण, दान में प्राप्त सामग्री, थर्मल, आॅक्सीमीटर एवं मितानिनों और हेल्थ वर्कर की दवा पेटी में दवाईयों की उपलब्धता आदि की जानकारी लेते हुए आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। 

डोमन सिंह ने कहा कि पात्र नागरिकों को अधिक से अधिक टीकाकरण कराने के लिए प्रेरित करें। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी-कर्मचारी यह सुनिश्चित करें कि कोई भी टीका का डोज वेस्टेज न हो। जिन पंचायतों में टीकाकरण के लिए साईट नहीं बनाया गया है ऐसे स्थलों को प्राथमिकता के साथ टीकाकरण के लिए साईट बनाएं। इसके लिए आगामी एक सप्ताह तक के लिए कार्ययोजना बना लें। टीकाकरण का आॅनलाईन पंजीयन निर्धारित समय पर करें। स्वास्थ्य विभाग द्वारा किसी भी व्यक्ति की मृत्यु होने पर डेथ आॅडिट अनिवार्य रूप से करें। सीमावर्ती क्षेत्रों, क्वारेंटाईन सेंटर, कंटेनमेंट जोन पर प्रतिदिन लक्ष्य के अनुरूप टेस्टिंग करें। जिन गांवों में कोविड-19 के धनात्मक प्रकरण अधिक है ऐसे गांवों में वरिष्ठ अधिकारी जाकर ग्रामीणों को कोविड-19 के प्रोटोकाॅल के नियमों को पालन करने की समझाईश दें। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा है कि निर्धारित समय पर दुकानें एवं बाजार को बंद कराएं तथा संबंधित स्थलों पर ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव एवं सैनेटाईजिंग कराएं। 

उन्होंने कहा कि राज्य शासन द्वारा छत्तीसगढ़ी महतारी दुलार योजना-2021 के तहत् कोविड संक्रमण के कारण  अनाथ हुए बच्चों को निःशुल्क स्कूली शिक्षा देने के लिए बच्चों की भविष्य संरक्षण के लिए महत्वपूर्ण कदम उठाया है। इस योजना के तहत् अनाथ हुए बच्चों की पूरी स्कूली शिक्षा जिसमें कक्षा पहली से बारहवीं तक के अध्ययन का खर्च छत्तीसगढ़ सरकार उठायेगी और उन्हें प्रतिमाह छात्रवृत्ति प्रदाय की जाएगी। ऐसे विद्यार्थियों को जिले के स्वामी आत्मानंद अंगे्रजी माध्यम स्कूलों में प्रवेश की प्राथमिकता दी जाएगी तथा शासकीय स्कूलों में निःशुल्क शिक्षा उपलब्ध कराई जायेगी और छात्रों को छात्रों को स्कूल शिक्षा के बाद भी उच्च शिक्षा के लिए शासन द्वारा प्रोत्साहन दिया जायेगा। प्रतिभावान छात्रों को व्यवसायिक पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए कोचिंग की भी सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी। इसके लिए जिला शिक्षा अधिकारी को इस योजना के तहत् जिले के पात्र विद्यार्थियों का चिन्हांकन करने के निर्देश दिए गए है। बैठक में अपर कलेक्टर जोगेन्द्र कुमार नायक, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. एन.के. मंडपे, जिला शिक्षा अधिकारी  राॅबर्ट मिंज सहित संबंधित विभाग के जिला अधिकारीगण एवं विकासखण्ड अधिकारीगण वर्चुअल मौजूद थे।