महासमुंद: कलेक्टर ने ली राजस्व अधिकारियों की बैठक, कहा राजस्व प्रकरणों की सुनवाई सप्ताह में पाँच दिन करें 

 | 
1

रिपोर्ट- शुकदेव वैष्णव

महासमुन्द कलेक्टर डोमन सिंह ने आज जिला कार्यालय के सभाकक्ष में ज़िला राजस्व अधिकारियों की बैठक लेकर कामकाज की समीक्षा की। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि शासन के कल्याणकारी योजनाओं के सकारात्मक परिणाम सुनिश्चित करें, ताकि इनका लाभ लक्षित वर्गों को मिल सकें। उन्होंने कहा कि सरकार की मंशानुरूप योजनाओं का क्रियान्वयन कर लक्ष्य समय पर पूरा करें। कलेक्टर ने कहा कि शासन की योजनाओं से पात्र हितग्राहीं लाभान्वित हो यह सुनिश्चित करें। उन्होंने अनुविभागीय राजस्व अधिकारियों और तहसीलदारों से नामांतरण, बंटवारा, सीमांकन, वन अधिकार पत्र, भू-अर्जन, राजस्व वसूली सहित आम ग्रामीणों से जुड़े राजस्व प्रकरणों की विस्तार से जानकारी ली। नगरीय क्षेत्र में नजूल पट्टे की शासकीय भूमि का इच्छुक पात्र हितग्राहियों को गाइड लाइन अनुसार मालिकाना हक़ देने पर ज़ोर दिया। उन्होंने कहा कि अधिकारी अन्य कार्यों के साथ अपने मूल काम पर भी विशेष ध्यान दें।

कलेक्टर सिंह ने ज़िले के राजस्व प्रकरणों पर सप्ताह में पाँच दिन सुनवाई करते हुए प्रकरण निपटाने के निर्देश दिए। ताकि लोगों को बार-बार कार्यालय न आना पड़े। उन्होंने सभी एसडीएम को कहा कि सप्ताह में एक दिन पटवारियों की बैठक लेकर किए गए या सौंपे गए कार्यों का ब्यौरा लें। कलेक्टर सिंह ने व्यक्तिगत वन अधिकार मान्यता पत्र जल्द से जल्द वितरण करने को कहा। इस कार्य को सर्वोच्च प्राथमिकता से पूरा करें, ताकि पात्र हितग्राही लाभान्वित हो सकें। उन्होंने इस बात पर ख़ुशी जताई कि विगत 6 माह में के आवेदनों पर पुनर्विचार 828 पात्र हितग्राहियों को लाभ मिला। बैठक में अपर कलेक्टर जोगेन्द्र कुमार नायक, अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व)  सुनील कुमार चन्द्रवंशी,  सीमा ठाकुर, ऋतु हेमनानी, सुश्री पूजा बंसल बैठक में मौजूद थे। ज़िले के अन्य एसडीएम  राकेश कुमार गोलछा,  भागवत जायसवाल, बी.एस. मरकाम,  एवं तहसीलदार, नायब तहसीलदार वीडियो कान्फ्रेंसिंग के ज़रिये जुड़े । 

 उन्होंने सभी मदों के राजस्व वसूली सहित जैसे बैंक, बाह्य आरआरसी के संबंध में जानकारी ली। सभी भू-अर्जन, सामान्य भू-अर्जनतथा राष्ट्रीय राजमार्ग के भू-अर्जन के प्रकरणों के निराकरण एवं मुआवजा भुगतान के संबंध में जानकारी लेते हुए कहा कि जिन प्रकरणों के भू-अर्जन के भुगतान लम्बित है, उन प्रकरणों पर नियमानुसार कार्रवाई करते हुए संबंधितों को मुआवजा भुगतान की कार्रवाई करें। इसके अलावा भू-अर्जन प्रकरणों पर रिकॉर्ड दुरूस्तीकरण अनिवार्य रूप से करें।

बैठक में उन्होंने निराकृत राजस्व प्रकरणों की जानकारी लेते हुए कहा कि जिन प्रकरणों का निराकरण राजस्व विभाग द्वारा कर लिया गया है। ऐसे प्रकरणों को रिकॉर्ड रूम में जमा करें। इसके लिए कुशल कर्मचारी को लगाए। राजस्व विभाग के लोक सेवा गारंटी योजना के तहत् जिन हितग्राहियों ने किसी कार्य के लिए आवेदन किए है, ऐसे आवेदनों या प्रकरणों को निर्धारित समय पर निराकृत करें। राजस्व पुस्तक परिपत्र के तहत् पात्र हितग्राहियां को लाभान्वित करें। इसके अलावा उन्होंने डिजीटल हस्ताक्षरित खसरों के सत्यापन, राजस्व अभिलेखों में आधार सीडिंग, मोबाईल नम्बर व जेंडर प्रविष्टि की प्रगति, आबंटन, नियमितीकरण, आबादी नजूल पट्टों की भूमि को फ्री होल्ड, नए आबादी पट्टों का वितरण, स्लम पट्टो का नवीनीकरण, नियमितीकरण एवं नवीन स्लम पट्टों का वितरण, एवं जातिप्रमाण-पत्र की विस्तृत समीक्षा की। 

बैठक के अंत में कलेक्टर डोमन सिंह ने कहा कि ज़िले में कोरोना संक्रमण की रफ़्तार धीमी हुई है। लेकिन उन्होंने टेस्टिंग, ट्रेसिंग, आइसोलेशन, क्लीनिकल ट्रीटमेंट और वैक्सीनेशन पर अधिक से अधिक ध्यान देने को कहा। कलेक्टर ने कोविड-19 की तीसरी लहर के की आशंका को देखते हुए पूरी तैयारी करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि अगर तीसरी लहर आती है तो उससे निपटने के लिए ज़िले के सभी स्वास्थ्य केंद्रों में 10-10 बैड, जम्बो ऑक्सिजन सिलेंडर और इंवेटेर सुविधा की व्यवस्था की तैयारी की जा रही है। इसकी पूरी जानकारी आपको और सम्बंधित को दी जाएगी ।