महासमुंद: अच्छी खबर: 100 वर्ष की जैन साध्वी ने दिया कोरोना को मात

 | 
1

रिपोर्ट- शुकदेव वैष्णव


बागबाहरा - कोरोना की दुसरी लहर जहां एक ओर कम उम्र के और हष्ट पुष्ट लोगों पर भारी पड़ रही है वहीं दुसरी ओर बागबाहरा के जैन मंदिर में विराजमान 100 वर्षीय जैन साध्वी अपने हौसले, संयमित जीवन शैली के चलते कम दिनों में ही कोरोना को मात देकर सामान्य दिनचर्या में वापस आ गए हैं, इतनी अधिक उम्र में संक्रमण के कारण स्थानीय जैन समाज और देश भर में उनके श्रावको में चिंता बनी हुई थी. 

बागबाहरा के विमलनाथ जैन मन्दिर में विराजित 100 वर्षीय जैन साध्वी पुष्पा श्री जी महाराज साहब को कोरोना ने 13 मई को अपनी चपेट में लिया था, चुँकि जैन साधु सन्तो के पास किसी भी तरह का परिचय पत्र नही होता है, जिसके कारण वे वैक्सीन से भी वंचित हैं और 100 वर्ष की उम्र होने की वजह से समाज जन उनके स्वास्थ्य को लेकर ज्यादा चिन्तित थे, उनके साथ ही मन्दिर में विराजित समत्वबोधि जी मसा, शुद्धबोधि जी मसा की बेहतर तीमारदारी और वयोवृद्ध पुष्पा श्री जी मसा के खुद के हौसले और संयमित जीवनचर्या से कोरोना को जल्द ही परास्त कर दिया, यहां यह बता दें कि पुरे देश में खरतरगच्छ संघ में पुष्पा श्री जी मसा सबसे अधिक उम्र की हैं, 36 वर्ष की उम्र में दीक्षित हूई जैन साध्वी पिछले 8 वर्षो से स्थानीय जैन मंदिर में विराजमान हैं, उनके कोरोना संक्रमण से ठीक होने की खबर से उनके अनुयायियो को राहत मिली।