महासमुंद :-  अब तक 63 ग्राम पंचायत और 281 गॉव में हो चुका है शत्-प्रतिशत् टीकाकरण

 | 
1

महासमुंद 26 अगस्त आज की तारीख महासमुंद के लिए यादगार बन गई है। आज महासमुंद नगरीय क्षेत्र भी सौ फीसदी टीकाकरण की श्रेणी में आ चुका है। यानि महासमुंद शहर में भी शत्-प्रतिशत् टीकाकरण हो गया है। इससे पहले जिले के पांच नगरीय क्षेत्र सरायपाली, पिथौरा, बसना, तुमगॉव और बागबाहरा में सभी पात्र लोगों को कोविड का टीका का शत्-प्रतिशत् लक्ष्य पूरा हो गया था। सिर्फ महासमुंद नगरीय क्षेत्र ही बचा था। प्रशासन द्वारा बेहतर कार्ययोजना बनाकर महासमुंद नगर को भी शत्-प्रतिशत टीकाकरण की श्रेणी में ले आएं। अब जिले के सभी नगरीय क्षेत्र में शत्-प्रतिशत् टीकाकरण हो चुका है। इसके साथ ही गांवों में और 63 ग्राम पंचायतों में भी शत्-प्रतिशत् टीकाकरण हुआ है।
महासमुंद जिले के नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों में सभी पात्र उम्र के 5,38,590 लोगों को अब तक टीकाकरण किया जा चुका है। इनमें महासमुन्द ग्रामीण में 80,038 व्यक्तियों महासमुंद नगरीय में 45,775 लोगों का वैक्सीनेशन किया जा चुका है। बागबाहरा ग्रामीण में 90,943, बागबाहरा शहर में 15,669, पिथौरा ग्रामीण क्षेत्र में 75,757, पिथौरा शहरी क्षेत्र में 9,600, बसना ग्रामीण क्षेत्र में 86,345, बसना शहरी क्षेत्र में 9,496 पात्र लोगों का टीकाकरण किया गया है। इसी प्रकार सरायपाली ग्रामीण में 1,03436 और सरायपाली शहरी क्षेत्र में 15,696 लोगों को कोरोना की डोज दी गयी है। वहीं तुमगॉव शहरी क्षेत्र में 5,835 लोगों को कोविड का टीका लगाया गया है।
कलेक्टर ने कहा कि यह सब टीम भावना का ही असर है, जिसमें हमें कामयाबी मिली। उन्होंने कहा कि अब काफी दिनों से एक्का-दुक्का कोरोना पॉजिटिव आ रहें हैं। तो वहीं कुछ दिनों से यह संख्या घटकर जीरो तक पहुंच गई है। जिले में संदिग्ध लोगों को रंेडमली कोरोना टेस्टिंग की जा रही है। वहीं सीमावर्ती इलाकों में भी आने-जाने वालों पर भी नजर रखी जा रही है और वहां पर भी कोरोना की टेस्टिंग जारी है। श्री सिंह ने कहा कि पहले नगरों को ही शत्-प्रतिशत् टीकाकरण की श्रेणी में रखकर काम किया उसके बाद बड़े गांव और देहातों में भी विभिन्न प्रचार माध्यमों, स्वास्थ्य कर्मियों, ऑगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, अधिकारी-कर्मचारियों, पंच-सरपंचों आदि के जरिए डोर-टू-डोर जाकर लोगों को जागरूक किया गया। जिसका परिणाम अब सकारात्मक दिखने लगा है। अभी भी मेहनत की जरूरत है।
उन्होंने कहा कि जिस गांवों में या घरों में घर के लोगों को एक भी कोरोना टीका नहीं लगा है, उनको चिन्हांकित कर टीका लगाने के लिए प्रेरित किया जाना है। क्यों कि अब स्कूल खुल गए है और बच्चें भी स्कूल पढ़ने के बाद घर जाते है ऐसे स्थिति में घर के सदस्यों को एक भी टीका नहीं लगा है तो वह संक्रमित हो सकते है। इसे रोकने के लिए ऐसे लोगों को चिन्हांकित कर कोरोना की पहली डोज लगाने पर जोर दिया जाए। कलेक्टर श्री डोमन सिंह ने स्वास्थ्य अमले सहित नगर पालिका कर्मचारियों, पार्षदों जनप्रतिनिधियों और जनता को भी इसके लिए बहुत-बहुत बधाई दी और आभार व्यक्त की है।
अब तक जिले के 63 ग्राम पंचायतों और 281 गांवों में भी शत्-प्रतिशत् टीकाकरण हो चुका है। इनमें सर्वाधिक सरायपाली के 132 गांव और 34 ग्राम पंचायतें शामिल है। दूसरे नम्बर पर बसना के 59 गॉवों एवं 10 ग्राम पंचायतों में भी सौ फीसदी टीकाकरण हो गया है। वहीं पिथौरा विकासखण्ड के 12 ग्राम  पंचायत और 30 गॉवों के पात्र लोगों को वैक्सीनेट किया गया। इसी प्रकार बागबाहरा के 4 ग्राम पंचायत सहित 41 गाँव पूर्ण टीकाकृत हो चुका है। इसी प्रकार महासमुन्द के 3 ग्राम पंचायत और 19 गांव के पात्र लोगों को कोविड का टीका लगा।