महासमुंद:-  अल्प वर्षा ने बड़ाई किसानों की चिंता ,छत्तीसगढ़ के अधिकतर जिले सूखे की चपेट में

 | 
1

छत्तीसगढ़ कृषि प्रधान राज्य है यहा की अधिकतर जनसंख्या गांव में निवास करती है और मुख्य व्यसाय कृषि कार्य है ।
लेकिन इस वर्ष मौसम की बेरुखी से किसान समुदाय चिंतित है।
बारिश नहीं होने से प्रदेश में एक बार फिर सूखे का संकट मंडरा रहा है। 12 जिले सूखे की चपेट में हैं। मौसम विभाग की माने तो यहां 20 फीसदी से कम बारिश हुई है। इन 12 जिलों में 35 तहसीले शामिल है। वहीं अब सरकार के निर्देश के बाद प्रशासनिक अधिकारी सूखें का आंकलन कर रिपोर्ट जुटाना शुरू कर दिया है।
बताते चले कि प्रदेश में अगस्त महीने के शुरूआत में अच्छी बारिश हुई। झमाझम बारिश से नदी नाले उफान पर थे। वहीं इसके बाद से बारिश में अचानक से ब्रेक लग गया। जिसके चलते खेती किसानी का काम फिर से प्रभावित हो गया। कम बारिश के चलते धान की बुवाई और रोपाई नहीं हो पाई है। किसानों ने अपनी समस्या को लेकर सरकार से मदद की गुहार लगाई है।
जिस पर छत्तीसगढ़ साशन ने भी विषय को गम्भीरता से लेते हुए किसानो के हित के लिए आदेशित कर दिया गया जिस पर प्रशासनिक अमला भी शुखे का आकलन कर रिपोर्ट जुटाना शुरू कर दिए है।