महासमुन्द: तुमगांव अंधे कत्ल की गुत्थी सुलझी, पति और पुत्र ही निकले कातिल 

तुमगांव अंधे कत्ल की गुत्थी पुलिस ने 24 घंटे में सुलझाई, पति और पुत्र ही निकले कातिल - पुलिस अधीक्षक प्रफुल्ल कुमार ठाकुर ने दी जानकारी

 | 
1

रिपोर्ट- शुकदेव वैष्णव


कल तुमगांव थाना क्षेत्र के भांठापारा वार्ड नंबर 12 में एक अधेड़ महिला के अंधे कत्ल की  गुत्थी तुमगांव पुलिस ने 24 घंटे के भीतर सुलझा हुए, मामले में मृतिका के पति और पुत्र को हत्या के आरोप में गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के सामने आरोपी पति और पुत्र ने हत्या करना स्वीकार कर लिया है। आरोपियों के खिलाफ तुमगांव पुलिस भादवि की धारा 302 के तहत कार्रवाई कर रही है।

हम आपको बता दें कि मृतिका सुशीला साहू पति गोवर्धन साहू 50 साल पिछले कुछ सालों से मानसिक रूप से बिमार है, जिसके चलते मृतिका हमेशा अपने बेटे बहुओं से लड़ाई किया करती थी। आरोपियों ने पुलिस को बताया है कि पिछले सप्ताह मृतिका का अपने परिवार में पति, बेटे और बहू के साथ जमकर लड़ाई की और अपने बेटे के साथ मारपीट की। मृतिका के इसी हरकत से पूरा परिवार तंग आ गया था। घरेलू विवाह के बात कुछ दिनों पहले ही मृतिका का परिवार सुशीला साहू को अपने एक अन्य घर जो तुमगांव के भाठापारा के वार्ड नम्बर 11 में है वहीं पर मृतिका को रहने के लिए रखा गया था।

मृतिका के बार-बार की लड़ाई से तंग आये पति गोवर्धन साहू 60 साल ने अपने बेटे चन्द्रशेखर साहू के साथ मृतिका सुशीला साहू के लड़ाई झगड़ा करने की बात को लेकर आक्रोशित हो गई और गुस्से में गोवर्धन साहू, चन्द्रशेखर साहू ने सुशीला साहू को जान से मारने की योजना ना ली। घटना दिनांक 25 को मृतिका खाना खाकर सो गई। रात्रि को साढ़े 3 बजे के लगभग आरोपी पिता-पुत्र सुशीला जहां रहती थी वहां पहुंचे और घर का दरवाजा खटखटाया। दरवाजा खटखटाने की आवाज सुन कर मृतिका ने जैसे ही दरवाजा खोला आरोपी पिता पुत्र जो गुस्से से आग बबुला थे ने अपने पास रखे धारदार हथियार से मृतिका के सिर और शरीर के अन्य हिस्से पर वार कर दिया। अचानक हमले से मृतिका बेसुध होकर जमीन पर गिर पड़ी और घटना स्थल पर ही दम तोड़ दिया।

घटना को अंजाम देकर पिता पुत्र वापस अपने घर पहुंच और सुबह होने का इंतजार करने लगे। ग्रामीणों से जब सुशीला के आरोपी पिता पुत्र को हत्या होने के जानकारी मिली तब वह वहां पहुंचे और मामले को रफा दफा करने में लगे थे। तुमगांव पुलिस को मामले की जानकारी मिली और पुलिस तत्काल घटना स्थल पहुंच कर लाश को अपने कब्जे में लिया और अज्ञात आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर मामले को जांच में लिया था। पुलिस को पहले से ही परिवार पर शक था। पुलिस ने आरोपी पति, पुत्र से कड़ाई से पूछताछ तब आरोपियों ने अपना अपराध करना कबूल कर लिया है।