पखांजूर :- मुआवजा और रोजगार की मांग को लेकर राष्ट्रपति प्रधानमंत्री राज्यपाल मुख्यमंत्री के नाम सौंपा ज्ञापन

 | 
1

सोशलिस्ट यूनिटी सेंटर ऑफ इंडिया (कम्युनिस्ट)पार्टी एवं ऑल इण्डिया किसान खेत मजदूर संगठन ने कोरोना से एवं कोरोना काल की त्रासदी में मृत्यु हुए परिजनों को मुवावजा और रोजगार के मांग को लेकर  सभा कि और राष्ट्रपति,प्रधानमंत्री,राज्यपाल, मुख्यमंत्री के नाम सर्वे करके प्राप्त किये मृतकों कि सुचि और मांग पत्र  अनुविभागीय अधिकारी (रा.)पखांजूर के हाथो ज्ञापन सौपा ।

 
कोविड-19 महामारी संक्रमण एवं कोरोना काल की त्रासदी से मृत परिवार के परिजनों के वेरोजगारों को राज्य - केंद्र सरकारें सरकारी कर्मचारी की पदों पर नियुक्ति दे एवं आर्थिक सहयोग राज्य (पांच लाख)केन्द्र दस लाख की मुआवजे  की मांग पर  सोशलिस्ट यूनिटी सेंटर ऑफ इंडिया (कम्युनिस्ट)पार्टी एवं ऑल इण्डिया किसान खेत मजदूर संगठन ने  मांग को लेकर  सभा किया और राष्ट्रपति,प्रधानमंत्री, राज्यपाल,मुख्यमंत्री के नाम पार्टी एवं संगठन ने मृतकों की सर्वे करके प्राप्त किये मृतकों कि सुचि और मांग पत्र  अनुविभागीय अधिकारी (रा.)पखांजूर के हाथो ज्ञापन सौपा।पार्टी के राज्य सचिव कॉमरेड विश्वजीत हारोडे ने कहां कि प्राकृतिक प्रोकोप के चपेट कोविड-19 महामारी संक्रमण एवं कोरोना काल के कारण से  देश के लाखों परिवार ने अपने मुखिया एवं परिजन को खो चुके है।आज उस त्रासदी से पीड़ित परिवारों को  केन्द्र एवं राज्य सरकारें तमाम सहयोग करने की अत्यंत आवश्यक है। राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन के तहत केन्द्र -राज्य सरकारें मृतकों के परिजनों को आर्थिक, मानसिक विश्वास के साथ  सम्पूर्ण सहयोग दे।कोरोना की चपेट में लाखों ने अपनी माता- पिता से लेकर अपने प्रियजनों को खोए।लाखों बच्चें अपनी मां की ममता ,पितृ छाया से वंचित हो गए है उन सभी बच्चों की परवरिश की जिम्मेदारी और  परिजनों के वेरोजगारों को केन्द्र -राज्य सरकारें सरकारी कर्मचारी की पदों पर नियुक्ति देकर उन परिवारों को जीवन की मूल धारा में जोड़ने का अहम भुमिका अदा करे।यही तो लोकतंत्र है नहीं तो किस बात की ढोल पिटने जरूरत है ।भारत बृहद लोकतंत्र की देश है।दुनिया के नजर में देश झूठी लोकतंत्र की बनकर रह जाएगा।केन्द्र-राज्य सरकारें तत्काल मृतकों के परिजनों को पार्टी के जाय मांग पुरी करे।वर्ना एसयूसीआई (कम्युनिस्ट)पार्टी पुरे देश में इस हृदय विदारक विषय पर सड़कों से निकल कर लोकसभा विधानसभा सभा को घेरने मजबूर होंगे।कॉमरेड महेश मण्डल ने कहां कि एस यू सी आई कम्युनिस्ट पार्टी ने केंद्र सरकार को बार- बार याद दिलाया कि देश को विस्टा प्रोजेक्ट  की जरूरत नहीं है वल्कि केंद्र सरकार द्वरा कोविड-19 को आपदा घोषित राशी को देश की जनता को जरूरत है।विस्टा के अंतर्गत निर्माण होने वाले भवन देश में बहुत अच्छी स्थिति में हैं।जबकि कोरोना काल की त्रासदी ने देश की लाखो परिजनों को खो चूंके हैं।पार्टी की तार्किक सिद्धांत को सुप्रीम कोर्ट ने भी सही साबित कर दी। और सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार (3 जून, 2021) को राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण को निर्देश दिया(एनडीएमए)
प्राकृतिक आपदा के चपेट से मरने वालों के परिवारों के लिए अनुग्रह राशि का भुगतान करने के लिए एक योजना तैयार करेने की पक्ष में फैसला दिया।केन्द्र एवं राज्य सरकारें वर्तमान दिवस तक मूकबधिर बनी हुई है।देश की यही संसद सभा ,विधान सभा मंत्री, संसद, विधायक की तमाम सुविधाएं बढ़ाने कोरोना काल में भी ध्वनिमत से मेज थफ- थफाते सारी सुविधाओं कि राशि स्वीक्रति करवा लेते परंतु जब देश की जनता ,कर्मचारी की बात आती है तब मंत्री, संसद ,विधायको की बोलती बंद रहता है या देश के पास पैसा नहीं होने की मगरमच्छ के आसूं बहाते है।जो बृहद लोकतंत्र  को ठेंगा दिखाकर उनकी सुख सुविधाएं भोग विलास की जीवन बिताने तनिक भी चोट नहीं पहुंचता हैं।यह लोकतंत्र के नाम पर पुंजीवाद की सेवक की भुमिका अदा करने उनके पक्ष में देश चला रहे हैं।इसलिए जनता को उनकी हक हमेशा लड़ाई करके ही हासिल करना होता है।जनता बार बार हासिल किये और आन्दोलन के मार्ग से ही हासिल करते रहेंगे।ऑल इण्डिया किसान खेत मजदूर संगठन राज्य कमेटी सदस्य एवं ब्लॉक सचिव अनिमेष विश्वास ने कहां कि लाखों बच्चें अपनी मां की ममता ,पितृ छाया से वंचित हो गए है उन सभी बच्चों की परवरिश की जिम्मेदारी और  परिजनों के वेरोजगारों को केन्द्र सरकार सरकारी कर्मचारी की पदों पर नियुक्ति देकर उन परिवारों को जीवन की मूल धारा में जोड़ने में सरकारें अहम भुमिका अदा करे।संगठन की मांगे तत्काल पुरी करे।संगठन ब्लॉक उपाध्यक्ष ने कहां कि प्राकृतिक आपदा हेतु राजस्व पुस्तक परिपत्र 6-4  अनुसार राज्य सरकार की तमाम महत्वाकांक्षी योजना  तैयार कर  कोविड-19 को आपदा कोरोना वायरस से मृत  परिजनों के वेरोजगारो कोकेन्द्र- राज्य सरकारें सरकारी कर्मचारी की पदों पर नियुक्ति दे । आर्थिक सहायता तत्काल भुगतान करने कोरोना काल से पीड़ित परीजनों को राज्य पांच लाख, केन्द्र सरकार दस लाख़ रुपये सहयोग राशी प्रदाय करे। जयपद, बाबलु, ज्योतिष ,विशंबर ,गौतम , पिंकी, सीमा,विष्णुपद,विभा ,आनंद,पंकज,
केशव ,स्वपन ,विप्रजीत,अनिमेष,दीपा, सुलाता, सत्यजीत, प्रदीप ,सुदर्शन ,मुकेश अनिमेष आदि उपस्थित रहे।