रायगढ़ :-  IDFC फर्स्ट बैंक सिर्फ नाम का अपने ही पैसे के लिए भटकता ग्राहक RBI के आदेशों की भी अनदेखी

 | 
1

 बैंकों के कुछ कर्मचारी और अधिकारी अपनी मनमानी से बाज नहीं आ रहे, जबकि बैंक में इनकी नौकरी बैंक के कस्टमर को अच्छी से अच्छी सुविधा का प्रलोभन देकर ग्राहक बनाया जाता है, और जब एक बार इनके ग्राहक बन गए, फिर बैंक कर्मियों की मनमानी से ग्राहकों को कर रहे परेशान।
रायगढ़ के बैंकों में बैंक के कस्टमर को छोटे-छोटे कामों के लिए घंटों खड़े करवा दिया जाता है। और यहां की भोली-भाली जनता इन बैंक की कर्मचारियों की हठधर्मिता का विरोध भी नहीं कर पाते। कुछ ऐसे मामले देखे हैं जिनमें पढ़े-लिखे लोग इसका कंप्लेन भी करते हैं, मगर यह स्थानीय बैंक कर्मचारी आरबीआई की आदेशों का भी अवहेलना करने से बाज नहीं आते। ऐसा ही एक मामला रायगढ़ के आईडीएफसी बैंक में देखने को मिला।
गोयल हुंडई के जनरल मैनेजर सुमित कुमार सक्सेना जिन्होंने 12 जुलाई 2021 को दिल्ली ओला बुक कराया था, जिसमें गलत खाते में ₹5000 ट्रांसफर हो गया। जिसकी शिकायत ऑनलाइन पोर्टल पर बैंक से तुरंत कि, बाद में ऑनलाइन पोर्टल से रिफरेंस नंबर दिया गया जिसमें इन्होंने लगभग 100 से अधिक बार, बैंक के कस्टमर केयर पर कॉल किया। 80 से अधिक बार बैंक के स्टाफ को कॉल किया और अपने कामों को छोड़कर लगभग 20 बार बैंक में गया। बावजूद उसके अब तक इन्हें इनका पैसा वापस नहीं मिला।इनके द्वारा आरबीआई में लिखित शिकायत की गई है। अब थक हार कर उपभोक्ता फोरम जाने की बात कही जा रही है। आखिर इस संक्रमण काल में हर इंसान एक एक पैसे को बचाकर चल रहा है, और कुछ अधिकारी और कर्मचारी के चलते अपने ही पैसे के लिए दर-दर भटकना पड़ रहा है, आखिर इन अधिकारी और कर्मचारियों पर नकेल कब कसी जाएगी या फिर यह बैंक कर्मी अपनी मनमानी और हठधर्मिता बदस्तूर जारी रखेंगे।