रायगढ़ : मनरेगा में रोजगार उपलब्ध कराने में रायगढ़ जिला प्रदेश में दूसरे स्थान पर

 | 
1

रिपोर्ट -लक्ष्मण वैष्णव

रायगढ़: महात्मा गांधी मनरेगा योजना में रोजगार उपलब्ध कराने में रायगढ़ जिला प्रदेश में दूसरे स्थान पर है। जिले में मानव दिवस सृजन के मई माह तक के लक्ष्य का 200 प्रतिशत हासिल कर लिया गया है। जिले को योजनांतर्गत वित्तीय वर्ष 2021-22 में 35.53 लाख मानव दिवस का लक्ष्य राज्य कार्यालय से मिला है। माह मई की स्थिति में राज्य कार्यालय से निर्धारित लक्ष्य 8.80 लाख मानव दिवस के विरुद्ध जिला के द्वारा 18.01 लाख मानव दिवस का सृजन कर लिया गया है जो माह मई की स्थिति में लक्ष्य का 200 प्रतिशत एवं मार्च 2022 की स्थिति में 50.70 प्रतिशत लक्ष्य हासिल कर लिया गया है। मनरेगा के तहत किये जाने वाले कार्यों नवीन तालाब निर्माण, तालाब गहरीकरण कार्य, भूमि सुधार कार्य, डबरी निर्माण कार्य, कुंआ निर्माण कार्य, मिट्टी सड़क निर्माण कार्य, गाय, मुर्गी एवं बकरी कोठा निर्माण कार्य जो मनरेगा के तहत् स्वीकृति योग्य है उन समस्त कार्यों को अधिक से अधिक संख्या में स्वीकृत किया गया है। जिसमें ग्रामीण क्षेत्रों में मांग के आधार पर पर्याप्त कार्य उपलब्ध है। इसी प्रकार मनरेगा के क्षेत्रीय अमला अनुविभागीय अधिकारी ग्रामीण यांत्रिकी सेवा, उप अभियंता, तकनीकी सहायक एवं ग्राम रोजगार सहायकों को संलग्न किया गया है।

मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत डॉ रवि मित्तल के निर्देशानुसार योजनांतर्गत स्वीकृत समस्त कार्यों को खोल दिया गया है। जिला पंचायत रायगढ़ एक लाख मजदूरों को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध है। अगले सप्ताह तक इस लक्ष्य को हासिल कर लिया जावेगा। सर्वाधिक मजदूरों को योजनांतर्गत रोजगार उपलब्ध कराने से ग्रामीण क्षेत्रों में वैश्विक महामारी (कोविड-19) काल में लाभ मिल रहा है। वर्तमान में वैश्विक महामारी (कोविड-19) के कारण रोजगार में भारी कमी आई है परन्तु रायगढ़ जिला अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्रों में निवासरत मजदूरों जो महात्मा गांधी नरेगा योजनांतर्गत पंजीकृत है। उन्हें पर्याप्त मात्रा में आवश्यकतानुसार कार्य उपलब्ध कराये जा रहें है।