रायगढ़ :- इन दिनों भारी उड़ान पर है परिवहन विभाग का उडऩदस्ता 

 | 
1

लंबे समय तक आरटीओ उडऩदस्तों में सुस्ती के बाद अब तेजी आ गयी है। यह हम नहीं बल्कि भारी वाहनों के संबंधित लोगों में चर्चा से यह बात बाहर निकल कर आ रही है। अब कहा जा रहा है कि आरटीओ उडऩदस्ता के पुराने दिन वापस आ चुके हैं । भारी वाहनों से इन दिनों जमकर वसूली की चर्चा है। रायगढ़ जिले में कोल एवं स्टील ट्रांसपोर्टिंग में लगे भारी वाहनों सहित अन्य वाहनों की आवाजाही औद्योगिक जिला होने के नाते अन्य जिलों की अपेक्षा ज्यादा है । सबसे प्रमुख बात यह है कि रायगढ़ में जहां जांजगीर, जशपुर और सरगुजा जिले के वाहनों की एंट्री है तो वहीं अंतरराज्जीय भारी वाहन भी हजारों की संख्या में रोजाना गुजरते हैं। ऐसे में शासन द्वारा निर्धारित शुल्क के अलावा भी इन वाहनों को रायगढ़ की सीमा पर एंट्री की भेंट चढ़ा कर जाना होता है जिसकी चर्चा न चाहते हुए भी होना लाजिमी है। वाहन चालकों की माने तो आरटीओ उडऩदस्ता के इस चक्र से शायद ही कोई वाहन निकल पाता होगा। लेकिन स्थानीय और राजनीतिक रसूख रखने वाले कुछ बड़े ट्रांसपोर्टर के सामने उडऩदस्ता की घिग्घी बंधी होने की चर्चा है। ये ट्रांसपोर्टर नियम कानून को आरटीओ उडऩदस्ता के अधिकारियों के जेब में डाल कर अपना काम करते हुए नजर आ रहे हैं।

काले हीरे के सौदागर डालमिया की गाडिय़ां देख बंद हो रही आंखें
रायगढ़ का आरटीओ उडऩदस्ता विभाग डालमिया के इशारे पर चल रहा है , ऐसी चर्चा है। चर्चा यह भी है कि इसकी सैकड़ों गाडिय़ां बिना परमिट के ओडिशा से रायगढ़ में प्रवेश करती हैं जिन पर इस विभाग का कोई नियंत्रण नहीं होने की बात कही जा रही है।