राजनांदगांव: मुख्यमंत्री ने सेवा रथ एम्बुलेंस का किया वर्चुअल लोकार्पण, जिले को मिली 4 एम्बुलेंस

 | 
1

रिपोर्ट- विपुल कनैया

राजनांदगांव 20 मई 2021: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राजनांदगांव जिले में कोविड संक्रमण से प्रभावित मरीजों को तत्काल चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने हेतु 4 सेवा रथ एम्बुलेंस का आज शाम अपने निवास कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में वर्चुअल लोकार्पण किया। राजनांदगांव में छत्तीसगढ़ अनुसूचित जाति विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष भुनेश्वर बघेल ने हरी झण्डी दिखाकर एम्बुलेंस को रवाना किया। 

छत्तीसगढ़ अनुसूचित जाति विकास प्राधिकरण द्वारा ये एम्बुलेंस राजनांदगांव जिले में स्वास्थ्य सुविधाओं के विस्तार हेतु प्रदान की गई हैं। मुख्यमंत्री ने अनुसूचित जाति विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष भुनेश्वर बघेल को इस पहल के लिए बधाई दी। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में एम्बुलेंस के माध्यम से लोगों को हॉस्पिटल तक पहुंचाने का सेवा कार्य किया जा सकेगा। कलेक्टोरेट में आयोजित कार्यक्रम में छत्तीसगढ़ अंत्यावसायी वित्त एवं विकास निगम के अध्यक्ष धनेश पाटिला, महापौर हहेमा देशमुख, कलेक्टर  टोपेश्वर वर्मा एवं  पदम कोठारी उपस्थित थे। 
     
मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर अपने उद्बोधन में कहा कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान पूरे छत्तीसगढ़ के साथ.साथ राजनांदगांव जिले के लोगों ने भी बहुत कठिनाईयों का सामना किया है, सभी के सहयोग से इस संक्रमण को नियंत्रित करने में काफी हद तक सफलता मिली है। बहुत संतोष की बात है कि छत्तीसगढ़ में संक्रमण दर अब सिर्फ 8 प्रतिशत रह गई है। राजनांदगांव जिले में तो यह केवल 3 प्रतिशत के आसपास आ गई है। पूरे प्रदेश में नए मरीजों की संख्या घट रही है और रिकव्हरी रेट में लगातार सुधार हो रहा है। यह बहुत खुशी की बात है कि राजनांदगांव जिले में रिकव्हरी रेट 94 प्रतिशत के आसपास पहुंच चुका है। हम लोगों ने बहुत कुछ गंवाने के बाद ये मुकाम हासिल किया है। कोरोना के कारण बहुत से लोग हम से हमेशा के लिए बिछड़ गए। कोरोना वायरस कितना खतरनाक हो सकता है, इस बात का अहसास इस दूसरी लहर ने हमें अच्छी तरह से करा दिया है। 
              
कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर से निपटने छत्तीसगढ़ में किये गए प्रयासों के बारे में बताते हुए मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर को छत्तीसगढ़ इसलिए जल्दी काबू में कर पाये क्योंकि हम लोगों ने इसकी शुरूआत होते ही चाक-चौबंद व्यवस्थाएं कर दी है। ऑक्सीजन सिलेण्डर एवं दवाईयों की व्यवस्था तत्काल की गई। हमने शीघ्रता के साथ अस्पतालों एवं कोविड सेंटरों में बिस्तरों का इंतजाम किया और बिस्तरों की उपलब्धता की जानकारी ऑनलाइन कर दी। टेस्टिंग, ट्रेसिंग और ट्रीटमेंट की रणनीति पर अमल करते हुए छत्तीसगढ़ प्रदेश ने अधिक से अधिक संसाधनों का विकास थोड़े समय में ही कर लिया है। अधिक से अधिक संख्या में जांच हो सके, इसके लिए प्रदेश में लगातार नए वॉयरोलॉजी लैब स्थापित किए जा रहे हैं। एक समय हम केवल 20 से 30 हजार टेस्ट ही प्रतिदिन कर पाते थें। आज 70 हजार से ज्यादा टेस्ट हर रोज किए जा रहे हैं। 
              
मुख्यमंत्री बघेल ने कोरोना की दूसरी लहर के दौरान सभी सामाजिक एवं अन्य संगठनों द्वारा हर स्तर पर दिये गए सहयोग की सराहना की। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में इस लड़ाई को लडऩे में  सभी वर्गों के लोगों और सामाजिक संगठनों ने सक्रिय योगदान दिया। अप्रैल महीने में जहां एक ओर राजनांदगांव जिले में रिकवरी रेट 74 प्रतिशत तक थी, वह आज बढ़ कर 94 प्रतिशत हो गयी है। इसी प्रकार छत्तीसगढ़ प्रदेश में रिकवरी रेट अब 89 से 90 प्रतिशत हो गयी है। ये सभी के सामूहिक प्रयासों से ही सम्भव हो पाया है।
              

मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल ने कहा कि कोरोना का संकट अभी टला नहीं है। संसाधनों के विकास के साथ-साथ यह भी जरूरी है कि हम कोरोना काल के सामाजिक नियमों का पालन करें। सोशल डिस्टेंसिंग अपनाएं। समय-समय पर हाथ धोते रहे। सामाजिक कार्यक्रमों में भीड़भाड़ से बचें। खुद भी जागरूक रहे, दूसरों को भी जागरूक करें। जब आपकी पारी आए, तो टीकाकरण जरूर कराएं। कोरोना से बचने का सबसे अच्छा तरीका टीकाकरण और मास्क ही है। हम लोगों को यह भरोसा है कि शहरी क्षेत्रों की तरह ग्रामीण क्षेत्रों में भी हम कोरोना को जल्दी से जल्दी परास्त करेंगे। ग्रामीण क्षेत्रों में हमारे स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं से लेकर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं तक सभी इस मुहिम में डटे हुए हैं। ग्रामीण क्षेत्रों की स्वास्थ्य सुविधाओं को लगातार मजबूत बनाया जा रहा है। मरीजों को शीघ्रता के साथ उपचार मिले और गंभीर मरीजों को तत्परता के साथ अस्पताल पहुंचाया जा सके, इसके इंतजाम किए जा रहे हैं। 
              
अनुसूचित जाति विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष भुनेश्वर बघेल ने मुख्यमंंत्री से कहा कि आपने जो जिम्मेदारी दी उसका निर्वहन करते हुए अनुसूचित जाति विकास प्राधिकरण मद से ग्रामीण क्षेत्रों में जनसामान्य को स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करने के लिए 26 लाख 57 हजार रूपए की लागत से एम्बुलेंस खरीदा गया है। जिसमें ऑक्सीजन सिलेंडर एवं अन्य आवश्यक सुविधाएं होंगी तथा ग्रामीण जनता लाभान्वित होगी। 
              
कलेक्टर टोपेश्वर वर्मा ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुविधाओं के विस्तार के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र घुमका, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र डोंगरगढ़, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र मुढ़ीपार और प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र मरकामटोला को एम्बुलेंस दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि पहली बार चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के लिए ऐसी पहल की गई है तथा विधायक डोंगरगढ़ एवं अध्यक्ष अनुसूचित जाति विकास प्राधिकरण  भुनेश्वर बघेल द्वारा ऐसा निर्णय लिया गया। इस अवसर पर जनप्रतिनिधि, अपर कलेक्टर सीएल मारकण्डेय, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी, डीपीएम गिरीश कुर्रे एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।