महासमुंद पुलिस के अंतर्राष्ट्रीय नशा निरोधक/मुक्ति दिवस के अवसर पर आयोजित बेबीनार में हजारों लोग जुड़कर हुए लाभान्वित

 | 
1

रिपोर्ट- शुकदेव वैष्णव

महासमुंद पुलिस अधीक्षक प्रफुल्ल कुमार ठाकुर सदैव अपराधियो पर नकेल कसने के ताबड़तोड़ कार्यवाहियों के लिए सुर्खियों में बने रहते है। दूसरी ओर बेहतरीन सामाजिक पुलिसिंग के क्षेत्र में विशेष आयोजनो के माध्यम से जनमानस के बीच रूबरू होते रहते है। कोरोना वैश्विक महामारी के कारण आज दिनांक 26.06.2021 को महासमुंद पुलिस के द्वारा कल्याणी नशा मुक्ति केन्द्र भिलाई दुर्ग के तत्वाधान में अतंर्राष्ट्रिय नशा निरोधक/मुक्ति दिवस पर विशेष वेबीनार का अयोजन किया गया था। जिसमें मुख्य अतिथि प्रफुल्ल कुमार ठाकुर पुलिस अधीक्षक महासमुंद थे और विशिष्ट अतिथि डाॅ0 वर्णिका शर्मा मिलिट्री साइकोलाॅजिस्ट नेशनल चेयर पर्सन जनजाति क्षेत्र अध्ययन समूह(FANS) और अजय कल्याणी डायरेक्टर, कल्याणी नशा मुक्ति केन्द्र, दुर्ग ने कार्यक्रम का मुख्य वक्ता व संचालन तथा मेघा टेम्भूकर साहू अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक महासमुंद कार्यक्रम (वेबीनार) की अध्यक्षता की कमान संभाल रखी थी।

                 गूगल मीट व यूट्यूब लिंक के माध्यम से हजारों की तादात में जुड़े लोगों को मुख्य अतिथि प्रफुल्ल कुमार ठाकुर जी ने सम्बोधन करते हुए बताया कि जिला महासमुंद में लगातार गांजा, ड्रग्स, हिरोईन, गुटखा, गुड़ाखू, शराब व अन्य नशा संबंधी पदार्थो की बड़ी- बड़ी खेप पर कड़ी नजर रखते हुए वैधानिक कार्यवाही किया गया है। नशा मनुष्य जीवन का सर्वज्ञ नाश करती है जो घरेलू हिंसा व परिवारिक विवाद का सबसे बड़ा कारक होता है। ठाकुर जी आगे बताया कि वह मुख्यतः बस्तर क्षेत्र के निवासी है जो बचपन से बाजार, हाठ में दो शब्द गुड़ाखू और तम्बाकू को सुनते आ रहे है । जिससे आज तक उसमे क्या लोगो का लाभ मिलता है, समझ से परे है। यह नशीले पदार्थ पूर्णतः हानिकारक व बीमारियों को आमंत्रण देने वाले होते है।

            छ0ग0 बस्तर से पद्यमाश्री धरमपाल सैनी जी जो वेबीनार में उपस्थित थे, जिन्होने प्रफुल्ल कुमार ठाकुर की बात का समर्थन व सराहना करते हुए नशा मुक्ति पर अपनी बात कही। 

      विशिष्ट अतिथि शर्मा जी ने बताया कि, नशे की लत एक बीमारी है। कोई भी नशा करने से मनुष्य की दिमाग पर असर करता है, जिससे उसे वर्तमान में क्या करना है? ,क्या कर रहा है ? समक्ष से परे रहता है। जिससे नशे में गिरफ्त होकर अपराध घटित करता है व हिंसक हो जाता है।  

              कार्यक्रम के मुख्य वक्ता कल्याणी जी ने प्रजेंटेशन के माध्यम से सबसे पहले अपना परिचय देते हुए अवगत कराएं कि, कल्याणी एकीकृत नशामुक्ति व पुर्नवास केन्द्र 1/22, न्यू कृृष्णा नगर, सुपेला भिलाई नगर दुर्ग, छ.0ग.0 पर स्थित है। जहां एक महिना का निःशुल्क रहने व भोजन व्यवस्था कर नशा मुक्ति की ओर ले जाने का कार्य संपादन कराया जाता है। तथा पुरे दिन का दिनचर्या प्रातः 05 बजे से रात्रि 10 बजे तक का वर्णन किया गया। कल्याणी ने बताया कि नशे विभिन्न प्रकार की होती है जैसे निकोटीन, शराब, अवैध दवाएॅ, फार्मासुटिकल दवाएॅ, सुंधने वाले पदार्थ, जुआ, सट्टा, इंटरनेट, व्हाट्सऐप, फेसबुक आदि होना बताया। नशे से विभिन्न प्रकार की शारीरिक हानि, परिवारिक समस्याएं, सामाजिक समस्याएं, वित्तीय समस्याए, नशे की लत दुखद परिणाम असामयिक मौत होना, नशे के लिये बहाने आदि विषयो पर विस्तार से बताया गया। तथा नशे के लिये कल्पना/मित्स व सत्य/वस्तुस्थिति के तथ्यों पर गहन चर्चा हुआ। पुरे छ.ग.में विभिन्न विभागो से मिल कर इस क्षेत्र मे व्यापक कार्य करने की बात कही।

            मेघा टेम्भूकर साहू के द्वारा अंतर्राष्ट्रीय नशा निरोधक/मुक्ति पर आयोजित कार्यक्रम के सारगर्भित निष्कर्ष पर उदबोधन करते हुए सभी अतिथियों को सफल आयोजन हेतु आभार व्यक्त कर समापन की घोषणा की गई साथ ही कार्यक्रम में प्रश्नावली का समय भी तय था। जिसमें प्रश्न करने वाले को सही व सटीक उत्तर भी बताया गया। 

              कार्यक्रम में जिला महासमुंद के सभी अनुविभागीय अधिकारी पुलिस व जिले के सभी थाना प्रभारी, पुलिस अधीक्षक कार्यालय के समस्त अधिकारी/कर्मचारी व जिले के पुलिस जवान जुड़े हुये थे। जिले के विभिन्न शिक्षण संस्थान के प्राचार्य/शिक्षकगण, समाज सेवक, बाल मित्र व स्कूल/काॅलेज की छात्र/छात्रायें सभी 1432 ने वेबीनार सेें जुडे व प्रश्नोत्तर में भाग लिये कार्यक्रम के लिये गुगल मिट व लाईव युटूब की लिंक से जुड़ कर सभी ने पुलिस विभाग व कल्याणी ग्रुप की प्रशंसा की साथ ही भविष्य में और भी प्रशिक्षण करने की आग्रह भी किया गया।