कोरबा के एनटीपीसी के धनरास राखड़ बांध का कल प्रभावित ग्रामीण कटघोरा विधायक पुरुषोत्तम कंवर की अगुवाई में रोकेंगे काम

 | 
1

जमीन ले ली न नोकरी दी न मुआवजा ,प्रदूषण से लोतलोता के ग्रामीणों की जिंदगी हलाकान प्रभावित क्षेत्रों में शामिल करने सहित 7 सूत्रीय मांगों की अनदेखी को लेकर होगा प्रदर्शन

किशोर महंत कोरबा:-एनटीपीसी के धनरास राखड़ बांध से प्रभावित ग्राम पंचायत लोतलोता सहित आश्रित गांवों पुरेनाखार एवं चारपारा के भू -विस्थापित एवं ग्रामीण शुक्रवार 16 जुलाई को 7 सूत्रीय मांगों को लेकर एनटीपीसी प्रबंधन के खिलाफ काम रोको धरना प्रदर्शन करेंगे। एनटीपीसी के राखड़ बांध से उड़ रहे राखड़ से प्रदूषण की मार झेल रहे तीनों गांवों को एनटीपीसी के प्रभावित क्षेत्रों में शामिल करने की प्रमुख मांग को लेकर किए जाने वाले इस विरोध प्रदर्शन की अगुवाई क्षेत्रीय विधायक पुरषोत्तम कंवर करेंगे। काम रोको आंदोलन की चेतावनी से एनटीपीसी प्रबंधन में हड़कंप मचा है ।


यहाँ बताना होगा कि ग्राम पंचायत लोतलोता के आश्रित गांव लोतलोता,चारपारा एवं पुरैनाखार,सीएसईबी पश्चिम द्वारा अर्जित ग्राम हैं। लेकिन इन गांवों से एनटीपीसी का धनरास स्थित राखड़ डेम लगा हुआ है। जिससे सामान्य मौसम में उड़ने वाली राखड़ व बरसात में राखड़युक्त प्रवाहित पानी इन गांवों के जन जीवन को प्रभावित करता आ रहा है। उड़ने वाली राखड़ से गरीब ग्रामीणों के स्वास्थ्य पर इसका विपरीत असर पड़ रहा है वहीं खेतों की उपजाऊ क्षमता भी क्षीण हो रही है। हर साल दर्जनों किसानों के खेत की फसल राखड़ युक्त पानी से चौपट हो जाती है। किसानों को बड़ा आर्थिक नुकसान झेलना पड़ रहा है। एनटीपीसी के धनरास एश डाईक के विस्तार के लिए भू- अधिग्रहण में लोतलोता के 22 किसानों की जमीन भी गई है। लेकिन प्रभावितों को नोकरी के एवज में दी जाने वाली राशि भी आज पर्यन्त नहीं मिली है ।भू -विस्थापितों एवं ग्रामीणों को कोरोनाकाल में किसी भी प्रकार की आर्थिक सहयोग एनटीपीसी प्रबंधन द्वारा नहीं दी गई। इन सब समस्याओं को देखते हुए तीनों आश्रित गांव एनटीपीसी को प्रभावित क्षेत्रों में शामिल करने की गुहार लगाते आ रहे हैं। जिसकी लगातार अनदेखी की जाती रही है। सांसद प्रतिनिधि जीवन यादव ने बताया कि एनटीपीसी के राखड़ बांध से प्रभावित ग्राम पंचायत लोतलोता के तीनों आश्रित गांवों को एनटीपीसी के प्रभावित क्षेत्रों में शामिल करने की मांग सहित 7 सूत्रीय मांगों को लेकर 3 जून 2021 को मुख्य महाप्रबंधक एनटीपीसी कोरबा को आयोजित बैठक में ज्ञापन सौंपा गया था। एनटीपीसी प्रबंधन की असहमति के बाद 16 जून 2021 को तत्कालीन कलेक्टर श्रीमती किरण कौशल की अध्यक्षता में त्रिपक्षीय वार्ता रखी गई। जिसमें क्षेत्रीय विधायक पुरषोत्तम कंवर सहित तमाम जनप्रतिनिधि शामिल हुए। लेकिन त्रिपक्षीय वार्ता में उप महाप्रबंधक एनटीपीसी श्री सामंता ने गोल मोल जवाब दिया ,जिसकी वजह से किसी भी मांगों पर सहमति नहीं बन पाई। जिसके विरोध स्वरूप अब प्रभावित ग्रामीण प्रबंधन को सबक सिखाने 16 जुलाई को एनटीपीसी प्रबंधन के खिलाफ काम रोको धरना प्रदर्शन करेंगे। जिसकी अगुवाई क्षेत्रीय विधायक पुरषोत्तम कंवर करेंगे।

इन मांगों को लेकर होगा प्रदर्शन

 ग्राम पंचायत लोतलोता के आश्रित ग्राम लोतलोता ,चारपारा,पुरेनाखार को एनटीपीसी प्रभावित क्षेत्र में शामिल किया जाए।

 एनटीपीसी राखड़ डेम से उड़ रहे राखड़ की क्षतिपूर्ति दी जाए।

ग्राम पंचायत लोतलोता में अन्य प्रभावित गांवो की तरह विकास कार्य जैसे सड़क की मरम्मत ,सीसी रोड़, स्कूल भवन मरम्मत ,नए स्कूल भवन निर्माण ,सामुदायिक भवन निर्माण आदि कार्य कराए जाएं।

राखड़ उड़ने के कारण हो रही विभिन्न प्रकार की बीमारियां की रोकथाम के लिए मेडिकल कैम्प लगाया जाए।

एनटीपीसी के धनरास राखड़ डेम को हमेशा गीला रखा जाए।

ग्राम पंचायत लोतलोता के बेरोजगार युवाओं को एनटीपीसी में रोजगार उपलब्ध कराया जाए।

 एनटीपीसी के द्वारा ग्राम पंचायत लोटलोता के आश्रित गांवो में स्थाई पेयजल सुविधा का प्रबंध किया जाए।

वर्जन

रोकेंगे राखड़ बांध का काम

एनटीपीसी के धनरास राखड़ बांध ने हमारे लोतलोता के तीनों आश्रित गांवों के ग्रामीणों की जिंदगी नारकीय बना दी है।साल भर प्रदूषण की मार झेल रहे हैं। प्रभावितों को नोकरी के एवज में दी जाने वाली मुआवजा राशि भी नहीं मिली। 7 सूत्रीय मांगों को लेकर लगातार अनदेखी की जा रही है। जिसके विरोध में कल विधायक जी के अगुवाई में राखड़ बांध का काम रोकेंगे। उग्र विरोध प्रदर्शन करेंगे। जिसकी सम्पूर्ण जवाबदेही एनटीपीसी प्रबंधन ,जिला प्रशासन की होगी।

जीवन यादव सांसद प्रतिनिधि