DM की अध्यक्षता में समय-सीमा की बैठक निर्माण संबंधी कार्यों को प्राथमिकता के साथ पूरा करें: कलेक्टर श्री डोमन सिंह

 | 
1

महासमुन्द:कलेक्टर श्री डोमन  की अध्यक्षता में आज यहां कलेक्ट्रेट के सभाकक्ष में समय-सीमा की बैठक हुई। कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि जिले में आप लोगों की मेहनत और जनता के सहयोग के कारण कोरोना संक्रमण में कमी आई है। अब बचे निर्माण कार्य कोविड गाइड लाइन का पालने करते हुए तेजी के साथ किया जाए। जिले के अंदरूनी क्षेत्रों में बारिश से पहले पूल-पूलिया, सड़क निर्माण एवं मरम्मत कार्य पूरें कर लिए जाए ताकि बारिश में आवाजाही बाधित ना हो। उन्होंने कहा कि जिला प्रभारी मंत्री द्वारा फ्लैगशिप योजना, सभी निर्माण कार्यों और विभागीय गतिविधियों एवं प्रगति की समीक्षा इसी सप्ताह या अगले सप्ताह संभावित है। इसके लिए संबंधित अधिकारी तैयारी करके रखें। बैठक में मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री आकाश छिकारा, अपर कलेक्टर जोगेन्द्र कुमार नायक, डिप्टी कलेक्टर सहित विभिन्न विभागों के जिला अधिकारी मौजूद थे। जिले के एसडीएम, जनपद सीईओ एवं अन्य वीडियों कांन्फ्रेसिंग के जरिए जुड़े। बैठक में उन्होंने जिला एवं तहसील स्तर पर बाढ़ नियंत्रण कक्ष सहित आपदा प्रबंधन के लिए कार्ययोजना के साथ आगामी मानसून एवं कोविड-19 संक्रमण को ध्यान में रखते हुए सभी बचाव एवं राहत संबंधी तैयारियां पूरी करने के निर्देश दिए। उन्होंने जिले के ऐसे क्षेत्रों की पहचान करने को कहा जहां प्रतिवर्ष बाढ़ जैसे आपदा का सामना करना पड़ता है। वहां सभी राहत, खाद्य सामग्री, जीवन रक्षक दवाईयाॅ एवं अन्य नियमानुसार भण्डारण करने कहा। 
कलेक्टर डोमन सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री वृक्षारोपण प्रोत्साहन योजना का औपचारिक शुभारंभ 5 जून को किया जाना है। जिले के सभी विकासखण्डों में चयनित स्थलों में वृक्षारोपण की तैयारी रखें। उन्होंने कहा कि आज से फसल उत्पादन को प्रोत्साहित करने कृषि आदान सहायता हेतु राजीव गांधी किसान न्याय योजना पोर्टल पर कृषकों का पंजीयन आज 1 जून से 30 सितम्बर तक किया जा सकता है। इस योजना में समस्त श्रेणी के भू-स्वामी एवं वन पट्टाधारी कृषक योजना का लाभ प्राप्त करने हेतु पात्र होंगे। 
वनमण्डलाधिकारी  पंकज राजपूत ने कहा कि वर्ष 2020-21 मेें जिस रकबे से किसानों द्वारा न्यूनतम समर्थन मूल्य पर धान विक्रय किया था। यदि वे धान के बदले अन्य फसल कोदो-कुटकी, गन्ना, अरहर, दलहन, तिलहन आदि अथवा वृक्षारोपण करता है, तो उसे प्रति एकड़ मान से 10,000 रूपए आदान सहायता राशि दी जाएगी। वृक्षारोपण करने वाले कृषकों को तीन वर्षों तक आदान सहायता राशि दी जाएगी। उन्होंने कहा कि वृक्षारोपण हेतु कई विभागों से मांग आयी है। लेकिन कुछ विभागों द्वारा निर्धारित प्रपत्र में मांगी गयी जानकारी नहीं भेजी गयी है। उन्होेंने स्पष्ट करते हुए कहा कि विभाग अपने मद से पौधें लगाने से लेकर उसकी सुरक्षा, देखभाल करेंगे। वन विभाग सिर्फ पौधें उपलब्ध कराएगा। 
कलेक्टर  डोमन ंिसंह ने जिले के सभी जनपद सीईओ को निर्देशित किया कि गौठानों में वर्मी खाद को तत्काल सहकारी समितियों में पहुंचाने के निर्देश दिए। उन्होंने लोक सेवा गारंटी के प्राप्त आवेदनों के निराकरण समय-सीमा पर करने को कहा। अधिकारी-कर्मचारियों की कोविड से हुई मृत्यु पर उनके परिजनों को अनुकम्पा नियुक्ति के प्रकरणों का संबंधित विभाग तत्काल निराकरण कर उन्हें अनुकम्पा नियुक्ति की नियमानुसार कार्यवाही करें। उन्होंने स्वास्थ्य अधिकारी से कहा कि 31 मई तक कोविड से हुई मृत्यु की जानकारी की सूची संबंधित जिला कार्यालयों को हस्ताक्षर सहित भेजें। श्री सिंह ने क्वारेंटाईन सेंटरों में रहने वाले लोगों की कोविड जाॅच करने के निर्देश दिए। उन्होंने स्कूली बच्चों के वापिस किए गए जाति प्रमाण पत्र में स्पष्ट निर्देश देते हुए कहा कि जाति प्रमाण पत्र के परिजनों को चेकलिस्ट से मिलान कर आवश्यक कार्यवाही की जाए।